google-site-verification=gHOYcQlFDEsjPv1HJAVxeFNVsWwwx80JVF0IMcqivTM

What is Creatine and how to use it

क्रिए‍टिन लोकप्रिय एवं सस्‍ता सप्‍लीमेंट है। जिसके बारे में हर बॉडीबिल्‍डर जानना चाहता है। तो आईये जानते है सबकुछ क्रिएटिन के बारे में :-

क्रिएटिन मशल्‍स साईज एवं स्‍ट्रेन्‍थ बड़ाने में काफी सहायता करता है। साथ ही यह माइंड को एक्टिव भी रखता है। क्रिएटिन नेचुरल रूप से हमारी बॉडी में लिवर तथा किडनी में बनता है एवं यह रेड मीट में अधिक मात्रा में पाया जाता है। क्रिएटिन लेने के कुछ दिन बाद ही आप महसूस करेंगे कि आपकी स्‍ट्रेन्‍थ बढ़ गई है एवं आप जिम में अधिक वेट उठाने लगे हैं। क्रिएटिन के कुछ प्रकार :- 1. क्रि‍एटिन मोनोहाइड्रेट 2. क्रिएटिन साइट्रेट 3. क्रिएटिन नाइट्रेट 4. क्रिएटिन हाइड्रोक्‍लोराईड 5. क्रिएटिन सिरम 6. क्रिएटिन माइक्रोनाइज्‍ड

इनमें सबसे अधिक लोकप्रिय क्रिएटिन मोनाहाइड्रेट है। साथ ही कई रिसर्चों ने यह भी प्रुव हुआ कि क्रि‍एटिन मोनोहाड्रेट ही क्रिएटिन का सबसे बेस्‍ट फार्म है। क्रिएटिन लेने के एक घण्‍टे बाद ही वह ब्‍लड में पहुंच जाता है, इसका मतलब यह नहीं है कि तब से ही वह बॉडी को एनर्जी देने लगता है। यह एक स्‍लो प्रोसेस होती है। क्रि‍एटिन ब्‍लड में जाने के बाद धीरे-धीरे मसल्‍स सेल में स्‍टोर होता है एवं इसी स्‍टोर क्रिएटिन का उपयोग बॉडी एनर्जी के लिए करती है। इससे यह स्‍पष्‍ट होता है कि क्रि‍एटिन का प्रीवर्कआउट एवं पोस्‍टवर्कआउट से कोई लेना-देना नहीं है। क्रिएटिन का एर्ब्‍जोबेशन प्रोटिन, कार्बोहाड्रेट तथा सॉल्‍ट के साथ अधिक होता है। एर्ब्‍जोबेशन का मतलब यह है कि क्रिएटिन जब एक घण्‍टे बाद बॉडी में जाता है तो ब्‍लड में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन या साल्‍ट हो तो ये अधिक मात्रा में मशल्‍स में क्रिएटिन ले जाते हैं।

क्रिएटिन के फायदे :- पावर बढ़ाना, स्‍ट्रेन्‍थ बढ़ाना, माइंड को एक्टिव रखता है, मसल्‍स साईज को बढ़ाता है, इंजरी होने पर इंजरी को जल्‍दी ठीक करने में मदद करता है, स्‍पाइनल कोर्ड को मजबूत करता है, हडि्‍डयों को मजबूत बनाता है।

क्रिएटिन के कुछ साईड इफेक्‍टस :- वेसे तो क्रिएटिन से ज्‍यादा कोई साइड इफेक्‍ट नहीं होते हैं फिर भी कुछ साईड इफेक्‍ट आपको गुगल सर्च में मिल जायेंगे। जैसे कि पेट खराब होना, डायरिया होना, मसल्‍स क्रेम्‍प होना। ये इसलिए होता है कि क्रि‍एटिन आपके मसल्‍स में पानी को स्‍टोर करता है। जिससे मसल्‍स फुली हुई दिखती है।  क्रि‍एटिन आपकी मसल्‍स में अधिक पानी ले जायेगा तो आपकी बॉडी को पानी की आवश्‍यकता होगी। इसलिए सही मात्रा में पानी पिए ताकी बॉडी को पानी मिल सके और इन साइड इफेक्‍ट से बचा जा सकें। महिला को 03 से 04 लिटर पानी एक दिन में पिना चाहिए एवं पुरूष को 04 से 05 लिटर तक पानी पिना चाहिए। इन साईड इफेक्‍टस के अलावा एक और साईड इफेक्‍ट काफी पापुलर है कि क्रिएटिन से किडनी डेमेज होती है। पर कई रिसर्चों में यह देखा गया है कि यह सिर्फ एक मिथ है क्रि‍एटिन लेने से किडनी डेमेज नहीं होती है। रिसर्च में लोगों को 4-5 साल तक क्रिएटिन दिया गया एवं उनका टेस्‍ट किया गया इससे किसी की भी किडनी पर कोई साईड इफेक्‍ट नहीं हुआ। क्रिएटिन से हेयर फॉल भी होता है, अगर आपको क्रिएटिन लेने के बाद हेयर फॉल हो रहा है, तो तुरंत क्रि‍एटिन बंद कर दे एवं कुछ समय देखे की हेयर फॉल बंद हुआ या नहीं।  नार्मल यह क्रिएटिन की डोज बंद करने पर बंद हो जाता है। क्रिएटिन से हेयर फॉल हजार में से एक को होता है, इसलिए जरूरी नहीं की क्रिएटिन से आपको हेयर फॉल हो।

कितना क्रिएटिन लेना सेफ है :- क्रिएटिन की सेफ डोज 0.3 से 0.8 ग्राम प्रति किलोग्राम बॉडीवेट प्रतिदिन है।

           कम समय में ज्‍यादा स्‍ट्रेन्‍थ एवं पॉवर बढ़ाने के लिए क्रिएटिन लोडिंग की जाती है। क्रिएटिन लोडिंग का मतलब होता है कि दिन में 04 बार क्रिटिन को 03 से 05 ग्राम तक एक हफ्ते त‍क लेना और उसके बाद क्रि‍एटिन की नार्मल डोज पर आ जाना। या फिर एक हफ्ते तक क्रिएटिन लोडिंग के बाद एक हफ्ते क्रिएटिन बंद किया जाता है। क्रि‍एटिन की नार्मल डोज 03 से 05 ग्राम प्रतिदिन होती है। यह डोज ज्‍यादा समय तक भी ली जाए तो इससेे कोई साईड इफेक्‍ट नहीं देखा गया है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *